Google+ Followers

Sunday, 24 May 2015

तेरे हाथों से जब....

तेरे हाथों से जब छूट जाएंगे हम 
आईने की तरह टूट जाएंगे हम..

तेरे आंगन में कोई परिंदा नहीं 
तेरे पिंजरे में आ रह जाएंगे हम..

आज बारिश हुई है बड़े जोर की 
ऐसा लगता है कि आज रोएंगे हम..

बख्श दे मुझको जन्नत ऐ नाजनीं 
तुझे पहलू में ले मर जाएंगे हम..

http://hottystan.blogspot.in/