Google+ Followers

Monday, 16 February 2015

जिन्दगी पल-पल...

जिन्दगी पल-पल ढलती है 

जैसे रेत मुठी से फिसलती है...


शिकवे कितने भी हो 

फिर भी हँसते रहना,


क्योंकि ये जिंदगी जैसी भी है 

बस एक ही बार मिलती है...

http://hottystan.mywapblog.com/