Google+ Followers

Saturday, 6 December 2014

सुबह के तख़्त....


सुबह के तख़्त नसीन , शाम को मुजरिम ठहरे...,

हमने पल-भर में नसीबों को बदलते देखा..!!!
http://hottystan.mywapblog.com/