Google+ Followers

Sunday, 21 December 2014

इस खामोशी को...


इस खामोशी को मेरी कमज़ोरी मत समझना,,

कलम झटकती हूँ तो स्याही आज भी दूर तक जाती है..!!


http://hottystan.mywapblog.com/