Google+ Followers

Saturday, 8 November 2014

तेरे ख़त आज.....

"तेरे ख़त आज लतीफ़ों की तरह लगते हैं,

खूब हंसती हूँ जहाँ लफ़्ज़-ए-वफ़ा आती  है...

http://hottystan.mywapblog.com/