Google+ Followers

Friday, 10 October 2014

हमें तो शामे-ग़म...

हमें तो शामे-ग़म में काटनी है ज़िन्दगी अपनी ,

जहाँ वो हों वहीं ऎ चाँद ले जा चाँदनी अपनी..

http://hottystan.mywapblog.com/