Google+ Followers

Tuesday, 30 September 2014

ओ तूने ठुकराया था...

       ओ तूने ठुकराया था जिस दिल को किसी की खातिर ,

         आज उस दिल में बगावत के सिवा कुछ भी नहीं .

              जिनमे सपने थे तेरे प्यार के ए जानेवफ़ा ,

          आज उन आँखों में नफरत के सिवा कुछ भी नहीं.