Google+ Followers

Monday, 29 September 2014

      अये बदनाम गलियों...! 
ये तुम्हारी ही वहशत का नतीजा है... 

के मासूमियत खिड़की पे बैठ 
  खुद को जवां करती है..!