Google+ Followers

Thursday, 13 February 2014

दिन भर कि थकान.....


दिन भर कि थकान,पैसों की तंगी,

जमाने भर की बेकार बातें,मुश्किल हालात् जिन्दगी के,

एक तेरे मुस्कराते चेहरे के सामने,सब झूठ से लगते हैं .

http://hottystan.mywapblog.com/